Page 8 of 8

पा जाएगा मधुशाला

मदिरालय जाने को घर से चलता है पीनेवला, 'किस पथ से जाऊँ?' असमंजस में है वह भोलाभाला, अलग-अलग पथ बतलाते सब पर मैं यह बतलाता…

Continue reading → पा जाएगा मधुशाला